नहीं थम रहा है तेंदुए का आतंक

संवाददाता

बगहा।। वाल्मिकी टाइगर रिजर्व के जंगल से भटके तेंदुए का आतंक थमने का नाम नहीं ले रहा है। जंगल के बीचों बीच में बसे गांव में लगभग रोजाना ही तेंदुआ घुस आता है जिससे लोग दहशत में हैं। अपने जान माल की सुरक्षा के लिए गांव वाले रतजगा करने को मजबूर हैं।

एक सप्ताह में तीसरी बार

एक सप्ताह के अंदर तीसरी बार शुक्रवार देर शाम संतपुर सोहरिया पंचायत के भेड़िहारी थारू टोला एवं करमहवा टोला में जंगल से भटक कर आए तेंदुए ने घंटों तांडव मचाया। ग्रामीणों ने बताया कि तेंदुए ने कई लोगों पर हमला करने का प्रयास किया, लेकिन उन्होंने समय रहते शोर मचाया जिससे लोग लाठी डंडों के साथ जमा हो गए। लोगों की भीड़ और हल्ला हंगामे से तेंदुआ जंगल की ओर भाग खड़ा हुआ।

बच्ची हुई थी जख्मी

याद रहे कि 28 मार्च की सुबह को तेंदुआ करमहवा टोला के एक घर में  घुस गया था। तेंदुए के हमले से छन्नू महतो की पुत्री शमिता कुमारी जख्मी हो गई थी। उसके दूसरे ही दिन यानी 29 मार्च को थारू टोला में घुसकर तीन अलग-अलग घरों में तीन बकरियों को मार डाला था।

मुखिया ने क्या कहा

इधर ग्रामीण भीम काजी, वासुदेव काजी, गोपाल महतो आदि ने बताया कि पिछले एक सप्ताह से गांव में तेंदुआ लगातार घुस रहा है जिससे लोग दहशत में है। इसके कारण वे समूह बना कर रतजगा करने पर मजबूर हैं। पंचायत की मुखिया बिंदु देवी ने बताया कि तेंदुआ की मूवमेंट रोजाना इस गांव में हो रही है। इससे कई घटनाएं हो चुकी हैं।

क्या कहते हैं अधिकारी

इस बाबत पूछे जाने पर बाल्मीकि नगर वन क्षेत्र के रेंज अधिकारी महेश प्रसाद ने बताया कि सूचना मिली है, तेंदुआ की हर गतिविधि पर नजर रखने के लिए वन कर्मियों की टीम को लगाया गया है तथा गांव के लोगों को सतर्कता बरतने को कहा गया है।

Facebook Comments
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply