मॉडर्न मीरा: जिसने कभी शीशा नहीं देखा !

अजय कुमार
भारतीय साहित्य परंपरा की कवियत्री जिसने जीवन पर्यंत श्वेत वस्त्र धारण किया, तख्त पर सोई और कभी शीशा नहीं देखा। वह कवयित्री जिसका जन्म उस सम्पन्न घर में हुआ जिसके आंगन दो सौ वर्षों से बेटी के जन्म के इंतजार में थी। वह कवियत्री जिन्होंने भारत में पहली बार महिला कवि सम्मेलनों की नींव रखी। वह कवियत्री जो निराला, पंत व जयशंकर प्रसाद के साथ छायावाद की चौथी स्तम्भ बनी।
आजके दिन यानी 26 मार्च 1907 को बाबू गोविंद प्रसाद वर्मा और हेमरानी देवी के आंगन में ‛मॉडर्न मीरा’ का जन्म हुआ।  बाबा गोविंद प्रसाद बहुत खुश थे, बच्चें का नाम महादेवी रखा।
यूपी के फर्रुखाबाद में जन्मे महादेवी वर्मा की प्रारंभिक शिक्षा इंदौर के मिशन स्कूल में हुई । 9 साल की उम्र में महादेवी का विवाह स्वरूप नारायण वर्मा से कर दी गयी। कहा जाता है कि दुल्हन बराती देखने भीड़ में घुस गई थी और शादी के समय नाइन की गोद में सोई थी। महादेवी वर्मा को यह विवाह कभी रास नहीं आया लेकिन स्वरूप नारायण से उनके सम्बन्ध सामान्य रहे।
महादेवी वर्मा ने 1932 में प्रयागराज विवि से संस्कृत में एमए करने के बाद प्रयाग महिला विद्यापीठ की प्रधानाचार्य का पद संभाला।
सात वर्ष की आयु में पहली कविता लिखने वाली महादेवी वर्मा ने 1932 में महिलाओं की पत्रिका चाँद का कार्यभार संभाला। इसी बीच 1930 में नीहार, 1934 में नीरजा, 1942 में अग्निरेखा काव्य-संग्रह के साथ-साथ 1943 में स्मृति की रेखाएं, 1969 में संकल्पिता आदि गद्य भी प्रकाशित होते रहे।
बौद्ध धर्म से प्रभावित महादेवी वर्मा ने गांधी जी के प्रभाव से स्वतंत्रता संग्राम में भी भाग लिया। 1956 में  पद्मभूषण, 1976 में साहित्य अकादमी फेलोशिप, 1988 में पद्मविभूषण, 1982 में यामा के लिए ज्ञानपीठ पुरस्कार दिया गया।
सुमित्रा कुमारी चौहान के कॉलेज की सखी और  सूर्यकांत त्रिपाठी निराला को राखी बांधने व बंधवाने वाली महादेवी वर्मा का 11 सितंबर 1987 को इलाहाबाद में देहांत हो गया।
उनकी  एक कविता जो बेहद पसंद है :
जो तुम आ जाते एक बार
कितनी करूणा कितने संदेश
पथ में बिछ जाते बन पराग
गाता प्राणों का तार तार
अनुराग भरा उन्माद राग
आँसू लेते वे पथ पखार
जो तुम आ जाते एक बार
हँस उठते पल में आर्द्र नयन
धुल जाता होठों से विषाद
छा जाता जीवन में बसंत
लुट जाता चिर संचित विराग
आँखें देतीं सर्वस्व वार
जो तुम आ जाते एक बार
(लेखक पत्रकार हैं। संपर्क: ajay.banty18b@gmail.com)
(आलेख विभिन्न वेबसाइट व सम्बंधित पुस्तकों/पत्रिकाओं में उपलब्ध सामग्री के आधार पर लिखा गया है)
Facebook Comments
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply