सहायक उर्दू प्राचार्य परीक्षा में सहरसा के अब्दुल बासित बिहार के टापर बने

अब्दुल बासित पिता, भाई और परिवार के अन्य सदस्यों के साथ

वजीह अहमद तसौवुर के कलम से ✍️
मुश्किलों से भाग जाना आसान होता है,
हर पहलू जिन्दगी का इम्तिहान होता है,
डरने वाले को मिलता नहीं है कुछ जिंदगी में,
लड़ने वालों के कदमों में जहान होता है।
बिहार लोक सेवा आयोग द्वारा आयोजित विज्ञापन सं0 46/2014 का परीक्षा परिणाम घोषित कर दिया गया है। बिहार के विभिन्न विश्वविद्यालयों में सहायक प्राचार्य उर्दू के खाली पदों को भरने हेतु लिये गये परीक्षा का परिणाम घोषित कर दिया गया है जिसमें सहरसा जिला के सैयद अब्दुल बासित हमीदी ने प्रथम स्थान प्राप्त कर अपने परिवार का ही नहीं पुरे कोशी क्षेत्र का नाम रौशन किया है। इस्लामिया उच्च विद्यालय सिमरीबख्तियारपुर के रिटायर्ड शिक्षक और हमारे उस्ताद सैयद जहीर उददीन साहब के सुपुत्र डा0 सैयद अब्दुल बासित हमीदी जो मखदुमचक, पंचायत सिमरी के निवासी हैं ने अपनी मेहनत, लगन और हौसले के दम पर न केवल उच्च शिक्षा शानदार प्रदर्शन के साथ पुरा किया बल्कि उर्दू के सहायक प्राचार्य के लिए हुए प्रतियोगिता परीक्षा में पुरे बिहार में पहला स्थान प्राप्त कर जिला और कोशी क्षेत्र का नाम रौशन कर दिया है जिसके कारण इनके गांव में खुशियों का माहौल है।

डा0 जरनिगार यास्मीन
एक कार्यक्रम में अपने विचार व्यक्त करते हुए

उधर उर्दू के नामवर और प्रसिद्ध शायर मरहूम कैफ अजीमाबादी की सुपुत्री और उर्दू की युवा कवयित्री, रचनाकार एवं आलोचक डा0 जरनिगार यास्मीन ने भी उर्दू सहायक प्राचार्य परीक्षा में शानदार प्रदर्शन करते हुए चौथा स्थान प्राप्त किया है जबकि आरक्षण कोटी में उनको प्रथम स्थान प्राप्त हुआ है।
इस परीक्षा में प्रथम दस स्थान में जिन लोगों ने जगह बनाई है उनके नाम हैं
1. अब्दुल बासित हमीदी
2. जियाउल्लाह
3. मो. जलाल उद्दीन
4. डा0 जरनिगार यास्मीन
5. अलाउद्दीन खां
6. हाफिज मोहम्मद इमरान
7. मो. सोहैल अनवर
8. अब्दुल वाहिद
9. सिम्मी
10. मोबश्शेरा सदफ
उर्दू के सहायक प्राचार्य के परीक्षा में तीन गैर मुस्लिम श्री मनी भूषण कुमार, श्री राजदेव कुमार और श्री बाल्मीकि राम ने भी सफलता प्राप्त कर उर्दू के झंडे को थाम कर इस लोकप्रिय भाषा के उज्जवल भविष्य में अपनी भूमिका अदा करने का इरादा कर लिया है।
सभी सफल प्रतिभागियों को दिल की गहराई से हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं।

Facebook Comments
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply