नागरिकता संशोधन विधेयक के विरोध में दरभंगा में जुलूस 14 को

नागरिकता संशोधन विधेयक किसी भी हालत में मंजूर नहीं, संविधान के खिलाफ काम कर रहे हैं गृह मंत्री
दरभंगा- केन्द्र सरकार के द्वारा लगातार मुसलमानों पर एकतरफा हमला किया जा रहा है। कभी तीन तलाक पर कानून, कभी राम मंदिर के हक में फैसला तो कभी एन0आर0सी0 के नाम पर मुसलमानों को परेशान किया जा रहा है। अभी एक दिन पहले लोकसभा में अमित शाह के द्वारा नागरिकता संशोधन विधेयक को पास किया गया है जो ना सिर्फ संविधान के खिलाफ है बल्कि सीधे सीधे मुसलमानों के खिलाफ है। मुसलमान इस तरह के किसी भी विधेयक को कबूल नहीं कर सकता। इस तरह का कोई भी विधेयक ना तो देशहित में है और ना ही मुसलमानों के हित में, खुलेआम मुसलमानों के और संविधान के खिलाफ काम कर रहे हैं देश के गृह मंत्री। इसलिए अब समय आ गया है मुसलमानों को अपने अधिकार और अपने खिलाफ केन्द्र सरकार के द्वारा किया जा रहा भेदभाव और देश से बाहर निकालने की गलत निति के खिलाफ सड़कों पर उतरना होगा। उक्त बातें आल इंडिया मुस्लिम बेदारी कारवाँ के अध्यक्ष नजरे आलम ने प्रेस ब्यान जारी कर दी है। श्री आलम ने कहा कि इस नागरिकता संशोधन विधेयक के खिलाफ देश भर में विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है ताकि भारत की अंधी बहरी सरकार इसे अविलंब वापस ले। अगर इस विधेयक को सरकार अविलंब वापस नहीं लेती है तो यू0एन0ओ0 तक इस मामले को ले जाया जायगा। इस विधेयक के खिलाफ आॅल इंडिया मुस्लिम बेदारी कारवाँ 23 दिसम्बर को दरभंगा कमिशनरी तक विशाल विरोध प्रदर्शन करेगा। इससे पहले 14 दिसम्बर को दरभंगा शहर में संध्या में मशाल जुलूस का आयोजन किया जायगा। दोनों कार्यक्रम की तैयारी को लेकर दिनांक- 12 दिसम्बर को दिन के 2ः30 बजे से एक जिला स्तरीय बैठक लालबाग निकट पानी टंकी (इकरा ग्राफिक्स, दरभंगा) कैम्पस में रखी गई है। इस बैठक में जिला भर से लोग उपस्थित होंगे ताकि विरोध प्रदर्शन कार्यक्रम को सफल बनाया जा सके।
Facebook Comments
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply