कॉलेज गेट पर से क्यों हटा उर्दू वाला नेमप्लेट, जबाब दे विवि प्रशासन: नजरे आलम

 

सीएम लॉ कॉलेज के प्राचार्य ने भाजपा के इशारे पर बिहार की दूसरी सरकारी भाषा का किया अपमान: बेदारी करवां

कॉलेज गेट पर से क्यों हटा उर्दू वाला नेमप्लेट, जबाब दे विवि प्रशासन: नजरे आलम

24 घंटे के अंदर उर्दू नेम प्लेट नहीं लगा तो प्राचार्य के खिलाफ करेंगे मुकदमा

दरभंगा – (प्रेस विज्ञप्ति) इस भीषण कोरोना महामारी में शिक्षण संस्थान में लोग कोरोना महामारी को रोकने के बजाय साम्प्रदायिकरण करने में लगे है। इसकी जड़ में साफ-साफ भाजपा है।

उक्त बातें एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करते हुए ऑल इंडिया मुस्लिम बेदारी कारवां के राष्ट्रीय अध्यक्ष नजरे आलम ने कहा कि आखिर सीएम लॉ कॉलेज गेट से किसके कहने पर उर्दू नेमप्लेट हटाया गया। क्या लॉ कॉलेज के प्रिंसिपल प्रो० बदरे आलम भाजपा के संरक्षण में काम कर रहे हैं। क्या प्राचार्य ने गंगा जमुनी तहजीब को तोड़ने के लिए भाजपाई के साथ मिलकर ये साजिश रची थी। जब बोर्ड को हटाना ही था तो क्यों लगाया गया, यह जबाब लॉ कॉलेज के प्रिंसिपल को देना होगा। बिहार की दूसरी सरकारी भाषा है उर्दू और सरकार का आदेश है हर जगह हिन्दी के साथ उर्दू नेम प्लेट लगाने का फिर प्राचार्य ने किस के कहने पर, किस अधिकार और किस कानून के‌ तहत उर्दू नेम प्लेट हटा दिया। अगर 24 घंटे के अंदर उर्दू नेम प्लेट नहीं लगा तो प्राचार्य के खिलाफ करेंगे मुकदमा। श्री आलम ने कहा कि कुछ लोग मिथिला- मिथिला कर अपना पेट भरते है। विवि की दलाली कर सिंडिकेट व सीनेट सदस्य बनते हैं। उन्हें कानून की क्या ज्ञान होगी। श्री आलम ने यह भी कहा की भाजपा आरएसएस के लोग बिद्या मंदिर को भी भगवाकरण करने में लगे है। जिस चंगुल में लॉ कॉलेज के प्रिंसिपल भी फंस गए हैं। कानून के मंदिर में प्रधानाचार्य को कानून के हिसाब से काम करना चाहिए लेकिन इन्होंने ऐसा नहीं किया है। श्री आलम ने कहा कि बहुत जल्द ही इस मामले को कोर्ट में पहुंचाया जाएगा।श्री आलम ने कहा कि विद्यार्थी परिषद के लोगों को ज्ञान नहीं है कि उर्दू बिहार की दूसरी भाषा है। लेकिन विद्यार्थी परिषद ने एक बार फिर इस घिनौनी हरकत कर कॉलेज को बदनाम करने का काम किया है।

Facebook Comments
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply