ईसा फाउंडेशन गुजरात द्वारा रमजान खाद्यान्न पैकेट का वितरण

वजीह अहमद तसौवुर के कलम से ✍️
सहरसा । गरीब, लाचार, अपंग, विधवा एवं यतीम को रोजा में किसी तरह की परेशानी नहीं हो और अफ्तार व सेहरी के बिना रोजा नहीं रहना पड़े इसके लिए ईसा फाउंडेशन जामिया फैजानुल कुरान अहमदाबाद गुजरात के सौजन्य से सिमरी बख्तियार पुर अनुमंडल स्तर पर “रमजान खाद्यान्न पैकेट का वितरण किया गया।
 फिदा ऐ मिल्लत ट्रस्ट मोबारकपूर के द्वारा  कार्यक्रम आयोजित किया गया  जिसमें मिल्लत ट्रस्ट के संरक्षक मौलाना महबूब उर रहमान कासमी ईसा फाउंडेशन गुजरात का परिचय कराते हुए कहा कि यह फाउंडेशन पुरे देश में जाति धर्म से ऊपर उठ कर शिक्षा, स्वास्थ्य,  और सामाजिक सहायतार्थ काम करती है साथ ही ऐसी गरीब लड़कियों की सामूहिक शादी भी कराती है जिन लडकियों के मां बाप गरीबी के कारण दहेज नहीं दे पाते हैं। इसी फाउंडेशन के द्वारा सिमरी बख्तियार पुर में विगत मार्च में 60 लडकियों का विवाह संपन्न हुआ था और भविष्य में बिहार में 600 लडकियों की शादी कराने का ईसा फाउंडेशन ने फैसला लिया है।
आज के समारोह में सिमरी बख्तियार पुर अनुमंडल के तीनों प्रखंडों सिमरी बख्तियार पुर, सलखुआ और बनमा ईटहरी प्रखंड के दर्जनों गांवों के सैकड़ों लोगों के बीच रमजान कीट का वितरण किया गया और वितरण का यह कार्यक्रम अभी कई दिनों तक चलेगा। आगामी रमजान को देखते हुए वितरण कार्यक्रम जल्द से जल्द संपन्न हो इसके लिए अनुमंडल स्तर पर 5 वितरण केन्द्र बनाया गया है।
इस रमजान पैकेट में 15 किलोग्राम चावल एवं 15 किलोग्राम आंटा, 5 लीटर सरसों तेल, दाल, बेसन, शर्बत, चाय चीनी, खजूर, मसाला से लेकर नमक तक शामिल है। आज ही 3 बजे शाम में बनमा प्रखंड के पूर्वी भाग के गांवों का केंद्र बादशाहनगर में रमजान पैकेज का वितरण किया जायेगा। इस अवसर पर मौलाना अंजर आलम मिफताही, हाफिज जिया उददीन नदवी, हाफिज शकील अहमद,  वजीह अहमद तसौवुर, अनवर आलम, अबु नसर, अब्दुल बासित, मेहदी हसन, मशीर आलम, अंजर इमाम, अबु सईद आदि उपस्थित थे।
रमजान पैकेज के पैकिंग से लेकर वितरण तक में जिन लोगों ने भरपूर सहयोग दिया उनमें मो0 असफर, बशर आलम, होजैफा, मो अली, हिफ्जुर रहमान, असजद, मुर्तजा आलम, महफूज़ आलम, आसिफ, असलम, अमजद, अखलाकुररहमान, यासिर अब्बास, ताज अली, मोजाहिद, चमन, प्रवेज, नदीम अख्तर के अलावा नौजवान कमिटी के सदस्यों का विशेष योगदान रहा।
Facebook Comments
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply