कोशी क्षेत्र को केन्द्रीय मंत्रीमंडल में प्रतिनिधित्व का अवसर मिलेगा?

वजीह अहमद तसौवुर के कलम से ✍️
एनडीए गठबंधन के नेता चुने जाने के बाद एक बार फिर श्री नरेन्द्र मोदी प्रधानमंत्री बनेंगे लेकिन कोशी क्षेत्र की जनता के मन में एक ही सवाल है कि क्या 15 साल बाद इस क्षेत्र का प्रतिनिधित्व केन्द्रीय मंत्रीमंडल में होगा?
असल में इस बार मन में लोगों के यह सवाल इसलिए भी उठ रहा है कि एक केन्द्रीय मंत्री के लिये जो भी योग्यता और आधार होना चाहिए उसमें इस इस बार कोशी के दोनों लाल श्री दिनेश चन्द्र यादव और श्री चौधरी महबूब अली कैसर खड़े उतरते हैं।

#श्री_दिनेश_चन्द्र_यादव :- एक मध्य किसान परिवार में जन्मे और इंजीनियरिंग की शिक्षा ग्रहण करने वाले श्ररी दिनेश चन्द्र यादव 1980 से राजनीति में अपनी किस्मत आजमाते रहे हैं और पहली सफलता 1990 में सिमरीबख्तियारपुर के विधायक के रुप में मिली और उसके बाद कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। चार बार विधायक, दो बार बिहार सरकार में मंत्री और चौथी बार संसद के लिये निर्वाचन यह केन्द्र में मंत्री बनने की योग्यता के लिए बहुत है साथ ही राजनीति के महारथी और विकास पुत्र के रूप में कोशी क्षेत्र में विख्यात हैं। वैसे तो जदयू खाते से कौन मंत्री बनेगा यह पार्टी पर निर्भर करता है मगर मौजूदा समय में दिनेश चन्द्र यादव के नाम पर मूहर लग जाये तो हैरत नहीं होगी।


#श्री_चौधरी_महबुब_अली_कैसर :- सिमरीबख्तियारपुर स्टेट के नवाब परिवार में जन्मे शराफत और ईमानदारी के प्रतिक चौधरी महबूब अली कैसर को राजनीति विरासत में मिली है। इनके दादा चौधरी नजिरुल हसन अंग्रेजी हकूमत के दौर में नवाब थे। पिता चौधरी मो0 सलाह उद्दीन अपने समय के कद्दावर कांग्रेसी नेता और पूर्व मंत्री थे। चौधरी कैसर 1990 से राजनीति के मैदान में उतरे और तीन बार विधायक, दो बार बिहार सरकार के मंत्री और लगातार दूसरी बार संसद के सदस्य बने। श्री कैसर पिछली और वर्तमान दोनों लोकसभा में एनडीए के लोकसभा में एकलौते मुस्लिम सदस्य हैं। वैसे तो उनकी पार्टी लोक जनशक्ति पार्टी के कोटे में मंत्रीमंडल में एक सीट है मगर मुस्लिम समुदाय को प्रतिनिधित्व देने के मकसद से उनकी मंत्रीमंडल में इंट्री हो सकती है।
अब देखना है कि 15 साल बाद क्या केंद्रीय मंत्री के रूप में कोशी के दोनों सपूतों या उनमें से किसी एक की ताजपोशी होती है या नहीं?

Facebook Comments
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply