नवंबर 22 के मुशायरा की तैयारी जारी…. शांति मार्च निकाला जायेगा 17 नवम्बर को।

♦वजीह अहमद तसौवुर के कलम से ✍️
राष्ट्रीय एकता कायम करने में भाषा का महत्वपूर्ण योगदान होता है। हर भाषा का सामूहिक विकास धर्म निरपेक्ष राष्ट्र को मजबूत बनाता है। भाषा और साहित्य को जन जन के दिलों तक पहुंचाने का काम शायरी करती है और शायरी को बुलंद मुकाम देता है मुशायरा व कवि सम्मेलन। इस तरह मुशायरा व कवि सम्मेलन के माध्यम से एक साथ राष्ट्रीय एकता, धर्म निरपेक्षता को न केवल मजबूत करने का प्रयास किया जाता है बल्कि समाज में आपसी भाईचारे को बढ़ावा देने और शिक्षा व साहित्य का माहौल बनाने में भी मदद मिलती है। इसी उद्देश्य के मद्देनजर सिमरी बख्तियार पुर के पहाड़ पुर स्थित चकभारो हाई स्कूल मैदान में आगामी 22 नवंबर को अखिल भारतीय मुशायरा व कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया है जिसमें अंतरराष्ट्रीय स्तर के प्रसिद्ध शायर जनाब हाशिम फिरोजाबादी , जमील खैराबादी, दिल खैराबादी, शाइस्ता सना, कलीम कैसर, मोहन मुनंतजिर, मोनिका देहलवी, अली बाराबंकी समेत कई अन्य प्रसिद्ध शायर व शायरात तशरीफ ला रहे हैं। इस मुशायरे को सफलता की ऊंचाई पर पहुंचाने के लिए मुशायरा कमेटी के सदस्यों विशेषकर अध्यक्ष गुलाम मोहम्मद कौसर, सचिव मो0 नाजीम अनवर एवं आयोजक चांद मंजर इमाम भरपूर मेहनत कर रहे हैं। अब जबकि मुशायरा व कवि सम्मेलन के आयोजन में 10 दिन का समय शेष रह गया है ऐसे में अब लोगों को भी मुशायरे की महफिल सजने का बेसब्री से इंतजार है।

उधर मुशायरा व कवि सम्मेलन की सफलता एवं आपसी भाईचारे व सद्भाव को बढावा देने के लिए आगामी 17 नवम्बर को शांति व सद्भाव मार्च महंत नारायण दास उच्च विद्यालय चकभारो के प्रांगण से पहाडपुर बाजार होते हुए हमीदपुर भटपूरा तक निकलेगी। 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply

Your email address will not be published.