देश की एकता व अखंडता को तोड़ने की हर साजिश नाकाम होगी… तारानंद सादा

 

 

तसौवुर के कलम से ✍️
कांग्रेस राष्ट्रीय सदस्य डा तारानंद सादा ने कहा कि ये सरकार मुट्ठी भर लोगों को फायदे पहुंचाने के लिए हर वह काम कर रही है जिससे लोगों का ध्यान भटका रहे। इसे देश की चिंता नहीं है। कभी नोटबंदी कर लोगों को लाईन में लगाने का काम करेगी , कभी धारा 370 हटाने की बात करेगी, कभी तीन तलाक की बात करेगी, कभी कोई विपक्षी दल आवाज उठायेगी तो उसे पाकिस्तान परस्त होने का ताना मारेगी लेकिन खुदा का शुक्र है कि सीएए, एनआरसी के मुद्दे पर पुरा भारत एक साथ खडा है और सारी पार्टियां भी एक साथ खड़े हैं यहां तक की नीतीश जी भी खामोश हैं और यह आप मां बहनों के हौसले के कारण संभव हुआ है। रानीबाग के एनआरसी, सीएए के खिलाफ आयोजित अनिश्चितकालीन धरना के 24 वें दिन सभा को संबोधित करते हुए डा सादा ने कहा कि इस देश की आजादी में हजारों हजार लोगों ने अपनी कुर्बानी दी है चाहे मुस्लिम, दलित, उच्च जाति सबने कंधे से कंधा मिलाकर देश को आजाद कराने का काम किया एक आजाद भारत में साथ चले, आजाद भारत का निर्माण किया, संविधान में सबको बिना धर्म जाति के भेदभाव के सबको बराबर का हक दिया, सबको अपने धर्म और संस्कृति के अनुसार जीने की आज़ादी दी मगर आज क्या हो रहा है? आज फ्रीज खोल कर देखा जा रहा है कि आपके फ्रीज में कौन सा खाना है, आप कैसे इबादत करेंगे कैसे पुजा करेंगे यह देखा जा रहा है, आप कैसे कपड़े पहनेंगे यह फरमान जारी किया जा रहा है और ये देखने वाले वे लोग हैं जिनको न हिंदू से मतलब है और न हिंदुस्तान से कुछ लेना देना है। उन्होंने कहा कि वह देश में थोपे जा रहे काले कानून के खिलाफ उठ खड़ लोगों के साथ हैं।

इस अवसर पर बिहार प्रदेश कांग्रेस कमेटी के सदस्य राम सागर पांडे ने कहा कि मोदी सरकार ने जब नोटबंदी किया था तो कहा था कि आतंकवाद समाप्त हो जायेगा, जाली नोट कारोबार का कमर टूट जायेगा, भ्रष्टाचार पर अंकुश लगेगा मगर उल्टे देश के अर्थव्यवस्था की ही कमर टूट गई। इस अवसर पर जिला युवा कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष और मुखिया मुकेश कुमार झा ने कहा कि केंद्र की सरकार हर मोर्चे पर फेल हो गई है इस वजह से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए धार्मिक भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रही है मगर भारत के लोग इस प्रकार के घृणित काम करने वालों को कभी सफल नहीं होने देंगे जिसका एक उदाहरण दिल्ली चुनाव भी है। इस अवसर पर अन्य लोगों के अलावा छत्री यादव, मनोज पासवान, सुरेंद्र यादव, शाहनवाज बद्र कासमी, चांद मंजर इमाम, बरकत अली, अकील अहमद, मुमताज रहमानी, जावेद अख्तर, गुड्डू मुखिया, शफाउलहक, जफर, नोमान खां, शाहिद, मंजूर आलम आदि शामिल थे। कार्यक्रम का संचालन हेलाल अशरफ व पुनपुन यादव ने किया।

Facebook Comments
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply