देश संविधान से चलेगा धर्म से नहीं… कन्हैया कुमार

तसौवुर के कलम से ✍️
सिमरीबख्तियारपुर के रानीबाग में एनआरसी, सीएए और एनआरपी के खिलाफ विगत 20 जनवरी से चलाये रहे धरना कार्यक्रम में जन गण मन यात्रा पर निकले जेएनयू के चर्चित छात्र नेता और पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार भी शामिल हुये और रानीबाग के मेला ग्राउंड में खचाखक भरे लोगों के सभा को संबोधित करते हुए कहा कि आज

किसान के बच्चे सीमा पर शहीद हो रहे हैं, किसान खेतों में मर रहे हैं। किसी मंत्री का बेटा फौज में नहीं होता है  बल्कि कोई गरीब का बेटा, कोई किसान का बेटा, कोई मजदूर का बेटा सैनिक बन कर देश के लिए अपनी जान देता है और किसान खेतों में अपनी जान गंवाता है । बाप मरे खेत में और बेटा शहीद हो सीमा पर लेकिन इनके हक अधिकार की बात न हो, इनके सवालों को नहीं उठाया जाये, बुनियादी समस्याओं की तरफ लोगों का ध्यान न जाये इसके लिए हिन्दू मुस्लिम का शगुफा छोड़ा जा रहा है।

सबसे ज्यादा किसान आत्महत्या कर रहे हैं, महिलाओं पर अत्याचार बढ गया है, एक से एक सरकारी कंपनियों को बेचा जा रहा है, रेलवे को प्राईवेट हाथों में देने की साजिश चली जा रही है तो इन चीजों से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए देश भर में एनआरसी, सीएए और एनआरपी के माध्यम से हिंदू मुस्लिम की जा रही है। कंहैया कुमार ने कहा कि सीएए, एनसीआर और एनपीआर लाने वाले देश के इतिहास को नहीं पढा है अगर देश के इतिहास का अध्ययन करते तो उनको पता होता कि देश की इतिहास यह है जो भजन सबसे ज्यादा गाया जाता है रामजी की निकली सवारी… उसको एक मुस्लिम ने गाया, बैजूबावरा फिल्म का भजन मन तडपत हरि भजन को  आज …. इसको लिखने वाले, संगीत देने वाले और गाने वाले मुसलमान और बजता है मंदिरों में यह है भारत का इतिहास।

 देश का संविधान हमारे टोपी पहनने वाले और टीका लगाने वाले में भेद भाव नहीं करता है। सबके वोट की कीमत बराबर है। देश संविधान से चलेगा धर्म से नहीं और आज जब संविधान पर खतरा है तो लोग सड़कों पर निकलने पर मजबूर हो गये हैं और सरकार ने अगर कानून वापस नहीं लिया तो हम गाँधी जी के विचारों को मानने वाले सविनय अवज्ञा करने पर मजबूर हो जायेंगे लेकिन एक बार धर्म के नाम पर बंट चुके देश को और बंटने नहीं देंगे। कंहैया कुमार ने कहा कि आज रेलवे को प्राईवेट लिमिटेड बनाने की कोशिश की जा रही है, एलआईसी, इयर इंडिया को बेचने की साजिश हो रही है इस पर लोगों का ध्यान नहीं जाये, विकास के मुद्दे पर सवाल खड़ न करे कोई, 15 लाख खाते में आने की बात न हो, बेरोजगारी सारे रिकार्ड तोड़ चुकी है और इन सब बुनियादी सवालों से ध्यान हटाने के लिए ही सीएए, एनआरपी और एनसीआर के जरिए हिन्दू मुस्लिम किया जा रहा है।
 इस अवसर पर प्रमुख वक्ताओं में कांग्रेस विधायक शकील अहमद खान, सीपीआई नेता ओमप्रकाश यादव, अभय कुमार, अब्दुस सलाम, मजनूं हैदर, सुरेंद्र यादव, गुंजन देवी, राजकुमार चौधरी आदि शामिल थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता कार्यक्रम के संयोजक छत्री यादव ने किया जबकि संचालन हेलाल अशरफ और शाहनवाज बद्र ने किया। कार्यक्रम में उपस्थित लोगों में मनोज पासवान, विनोद कुमार यादव, सैयद साजिद अशरफ, मुमताज रहमानी, चांद मंजर इमाम, नोमान खान, वजीह अहमद तसौवुर, अकील अहमद, जावेद अख्तर, सलाम अमीन, मसूद अख्तर जावेद, फिरोज आलम, जाफर इमाम, जेद फैसल, शौकत अली, जिललूर रहमान, मोदससीर, तहसीन, अरफात, अबुजर सिद्दीकी आदि शामिल थे।
Facebook Comments
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply