सिमरीबख्तियारपुर में 50 जोड़े की सामूहिक शादी समारोह

 

वजीह अहमद तसौवुर के कलम से ✍️
अभी से पाँव के छाले न देखो
अभी यारो सफ़र की इब्तिदा है

अपना ज़माना आप बनाते हैं अहल-ए-दिल
हम वो नहीं कि जिन को ज़माना बना गया
सिमरी बख्तियार पुर के फेनसाहा में बरकत अली फाऊँडेशन के तत्वावधान में 50 जोड़े की शादी सामूहिक रूप से एक स्टेज से किया गया। इस शानदार काम को अंजाम देने के लिए फाऊँडेशन के चैयरमैन भाई बरकत अली मुबारकबाद के मुस्तहक हैं।

यूं तो सिमरीबख्तियारपुर में कभी जलसा, कभी मुशायरा और कभी कव्वाली के नाम पर लाखों रुपये हर वर्ष खर्च होते रहे हैं मगर उसका नतीजा कुछ भी नहीं निकला मगर भला हो मौलाना महबूब साहब का जिन्होंने पिछले वर्ष 60 जोड़ों की शादी करवा कर यहां के लोगों की सोच बदल दी और अब इस प्रकार के समाजिक कार्यक्रम के आयोजन के माध्यम से समाज की भलाई का जो पुनित कार्य किया जा रहा है वह काफी सराहनीय है। बरकत अली और उनकी टीम बधाई के पात्र हैं।

Facebook Comments
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply