सिमरीबख्तियारपुर में एक दिवसीय हज प्रशिक्षण संपन्न

वजीह अहमद तसौवुर ✍️

सहरसा…. बिहार राज्य हज कमेटी की ओर से सिमरीबख्तियारपुर के जामा मस्जिद रानीबाग में तंजीम आईम्मा ए मसाजिद के तत्वावधान में एक दिवसीय हज प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया जिसमें कोशी प्रमंडल के हज के सफर पर जाने वाले हज यात्रियों ने भाग लेकर हज के संबंध में जानकारी प्राप्त किया।
इस अवसर पर अपने विचार व्यक्त करते हुए इमारत शरिया पटना के मुफ्ती सईदुररहमान कासमी ने कहा कि हज यात्री काफी भाग्यशाली हैं कि उनको उस पाक सर जमीन की ज्यारत नसीब हो रहा है जिसके लिए हर मुसलमान तरसता है। उन्होंने हज एवं उमरा के दौरान अहम मसाएल की जानकारी दी और हज यात्रियों के प्रश्नों का समाधान किया।


इस अवसर पर अपने संबोधन में दारुल उलूम देवबंद के शिक्षक मुफ्ती मुश्ताक नूरी ने कहा कि इस्लाम के पांच मुख्य स्तंभों में हज महत्वपूर्ण स्तंभ है और हज से हज यात्रियों के पिछले गुनाह माफ हो जाते हैं और आने वाले दिनों में उनके जीवन में परिवर्तन आ जाता है। अगर हज के बाद भी जीवन में बदलाव नहीं आया, गुनाहों और बुराईयों से नहीं रुके तो समझ लें कि हज मकबूल नहीं हुआ।


मुख्य मास्टर ट्रेनर और तंजीम आईम्मा मसाजिद के अध्यक्ष हाफिज मुमताज रहमानी ने आदाब सफर और भारतीय व सऊदी अरब के कानूनों से अवगत कराते हुए विस्तार से उन नियमों के पालन पर जोर दिया यह भी जानकारी दी कि शरई तौर पर हज के दौरान क्या करना है और क्या नहीं करना है।


कार्यक्रम की अध्यक्षता मौलाना मुजाहिरूल हक कासमी महासचिव तंजीम आईम्मा ए मसाजिद सहरसा ने किया जबकि इस अवसर पर बड़ी संख्या में महिला पुरुष हज यात्रियों के अलावा अन्य लोग भी उपस्थित थे।

Facebook Comments
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply