उर्दू अनुवादक के लिए 50 अंक वाले उर्दू विधार्थीयों को भी फार्म भरने की अनुमति देने की मांग

नजर आलम,
अध्यक्ष
बेदारी कारवाँ
सेवा में,
श्री नीतीश कुमार,
माननीय मुख्यमंत्री,
बिहार सरकार, पटना।
अपार दुःख के साथ आपको यह सुचित करना पड़ रहा है कि बिहार कर्मचारी चयन आयोग के द्वारा निकाली गई सहायक उर्दू अनुवादक की रिक्तियाँ जिसका विज्ञापन संख्या 01/19 है, जो कि पूर्णतः उर्दू वालों के ही लिए है इसके लिए उर्दू वाले इच्छुक अभ्यर्थी विज्ञापन के आधार पर अयोग्य घोषित किए जा रहे हैं!
मुख्यमंत्री जी इस विज्ञापन में जो न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता रखी गई है उसे आप स्वंय ही पढ़ें, जो इस प्रकार है:-
‘‘किसी मान्यता प्राप्त बोर्ड/विश्वविद्यालय से उर्दू विषय में कम से कम 100 अंकों के साथ इन्टरमीडिएट(+2)/समकक्ष’’
उर्पयुक्त न्यूनतम योग्यता को देखकर मुख्यमंत्री जी ऐसा लगता है कि बिहार कर्मचारी चयन आयोग के द्वारा कोई बड़ी भूल हो गई है, जबकि होना यह है कि इन्टरमीडिएट(+2)/समकक्ष में सिर्फ उर्दू एक पेपर के तौर पर हो। मुख्यमंत्री जी आपको अच्छे से मालूम है बिहार बोर्ड में पढ़ने वाले ज्यादह तर उर्दू वाले बच्चे 50-50 यानी MB-URD+RB-NH ही रखते हैं जो 50-50 ही नम्बर का हुआ करता है।
हम कोई नई बात मुख्यमंत्री जी आपसे नहीं कह रहे हैं पूर्व में भी जब उर्दू टी0ई0टी0 का विज्ञापन निकला था तो इसी विज्ञापन ही की तरह उसमें भी न्यूनतम योग्यता यही था, जो कि आपके हस्तक्षेप के बाद बदल कर सिर्फ इन्टर या उसके समकक्ष में 50 नम्बर का ही उर्दू पढ़ा होना माना गया।
मुख्यमंत्री जी हमारा संगठन आल इंडिया मुस्लिम बेदारी कारवाँ आपसे मांग करता है कि न्यूनतम शैक्षणिक योग्यता में बदलाव कराकर इन्टरमीडिएट/समकक्ष में 50 नम्बर का ही उर्दू होना दर्ज कराते हुए फार्म भरने की तिथि को भी बढ़ाया जाए ताकि उर्दू वाले इच्छुक अभ्यर्थी अपने सपनों को साकार कर सके।
भवदीय
नजरे आलम
राष्ट्रीय अध्यक्ष
Facebook Comments
Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Reply